Browsed by
Author: admin

kautilya

kautilya

“पुस्तकें एक मुर्ख आदमी के लिए वैसे ही हैं,  जैसे एक अंधे के लिए आइना।” ~ आचार्य चाणक्य

chanakya niti in hindi

chanakya niti in hindi

“ईश्वर मूर्तियों में नहीं है। आपकी भावनाएँ ही आपका ईश्वर है। आत्मा आपका मंदिर है।” ~ आचार्य चाणक्य

chanakya neeti /चाणक्य नीति

chanakya neeti /चाणक्य नीति

” Ek samjhdaar admi ko saras ki tarah hosh se kaam lena chahiye aur jagah,waqat aur apni yogitya ko samjhate hue apne karya ko sidh krna chahiye “ ~chanakya neeti “एक समझदार आदमी को सारस की तरह होश से काम लेना चाहिए और जगह, वक्त और अपनी योग्यता को समझते हुए अपने कार्य को सिद्ध करना चाहिए।” ~ आचार्य चाणक्य

sab kuch to hai fir-Love shayari

sab kuch to hai fir-Love shayari

sab kuch to hai fir kya dhundti h nigahein kya baat h mai waqt pe ghar kyu nahi jati vo ek hi chehra to nahi sare jahan mai jo dur hai vo dil se utar kyu nahi jata vo khawab jo barson se naa chehra naa badan hai सब कुछ तो है फिर क्या ढूंढ़ती है  निगाहें क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यों नहीं जाती वो एक ही चेहरा तो नही सारे जहाँ मैं जो दूर है वो…

Read More Read More

Ek kalam thi -love shayari

Ek kalam thi -love shayari

Ek kalam thi Ek raat thi likhne ko kuch nahi bas teri baat thi एक कलम थी  एक रात थी  लिखने को कुछ नहीं  बस तेरी बात थी।

Jo raj chuppe-shayari love

Jo raj chuppe-shayari love

Jo raj chuppe the hamare darmiyan Tere jane ke bad sab khul gaye Jo khawab piroye the hamne Barish hui or sab dhul gye | जो राज छुपे थे हमारे दरमियान  तेरे जाने के बाद सब खुल गए  जो ख्वाब पिरोए थे हमने  बारिश हुई और सब धूल गए।

Abhi hath hathon -love shayari

Abhi hath hathon -love shayari

Abhi hath hathon se chute nahi hai Abhi rok lo to theher jaenge Agar waqt mai behkar gujar jaenge ham Kaha dhundonge fir ………kaha milenge ham ! अभी हाथ हाथों से छूते नहीं है अभी रोक लो तो ठहर जाएंगे अगर वक़्त मे बेहेकर गुजर जाएँगे हम कहा ढूँढोगे फिर ……..कहा मिलेंगे हम !

Tumse pyar

Tumse pyar

Tumse pyar is kadar hua hai Aisa lage jese mene chand ko chua hai. तुमसे प्यार इस कदर हुआ है ऐसा लगे जैसे मैने चाँद को छुआ है.

Dur jakar bi bas

Dur jakar bi bas

Dur jakar bi bas tumse pyar hai Phir dekhne ko tmhe bas intazar hai Dil bekarar hai Phir milne ko tmse bas tayar hai Gale lagane ko baahein kb se bekarar  hai Phir chalne ko kahi dur bas intazar hai Tmse ho rahi mohabbat beshumar hai Phir simatne ko tum mai bass intazar hai Dur jakar bi bas tumse pyar hai………. दूर जाकर भी बस तुमसे प्यार है फिर देखने को तम्हे बस इंतज़ार है दिल बेक़रार है फिर मिलने…

Read More Read More