Bhul jana hi tha -Love Shayari

Bhul jana hi tha -Love Shayari

Bhul jana hi tha

Bhul jana hi tha to fir apna banaya hi kyu tha , tumne ulfat ka yakeen mujhko dilaya kyu tha.

Ek bhatke hue rahi ko sahara dekar jhuti manjil ke nishane tumne dikhaye kyu tha.

Khud hi toofan uthane tha mohabbat mai agar doobne se meri kashtiko bachaya kyu tha.

Jiske tabir ab akhno ke siva kuch bhi nahi khawab ese meri ankho ko dikhaya kyu tha.

Bhul jana hi tha to fir apna banaya hi kyu tha , tumne ulfat ka yakeen mujhko dilaya kyu tha.


भूल जाना ही था

भूल जाना ही था तो फिर अपना बनाया ही क्यों था ,तुमने उल्फत का यकीन मुझको दिलाया क्यों था,

एक भटके हुए रही को सहारा देकर झूटी मंज़िल के निशान तमने दिखया क्यों था।

खुद ही तूफान उठाना था मोहोबत में अगर डूबने से मेरी कश्ती को बचाया क्यों था ।

जिसके ताबीर अब आंखो के सिवा कुछ भी नहीं ख्वाब ऐसे मेरी आंखो को दिखया क्यों था।

भूल जाना ही था तो फिर अपना बनाया ही क्यों था ,तुमने उल्फत का यकीन मुझको दिलाया क्यों था|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *