kautilya

kautilya

kautilya

“पुस्तकें एक मुर्ख आदमी

के लिए वैसे ही हैं, 

जैसे एक अंधे के लिए आइना।”

~ आचार्य चाणक्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *