Meri hasi ke piche

Meri hasi ke piche

Meri hasi ke piche
Meri hasi ke piche

Meri hasi ke piche ka gam janta hai

kon keheta hai vo mujhe kam janta hai

nayi patiya nikli …kati nayi dali ki jagah


मेरी हंसी के पीछे का ग़म जानता है

 कोन केहेता है वो मुझे कम जानता है 

नई पतिया निकली….. कटी नई डाली की जगह

कोई तो है जो हर दर्द का मरहम जानता है ।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *