sab kuch to hai fir-Love shayari

sab kuch to hai fir-Love shayari

love shayari-sab kuch to hai

sab kuch to hai fir kya dhundti h nigahein

kya baat h mai waqt pe ghar kyu nahi jati

vo ek hi chehra to nahi sare jahan mai

jo dur hai vo dil se utar kyu nahi jata

vo khawab jo barson se naa chehra naa badan hai


सब कुछ तो है फिर क्या ढूंढ़ती है  निगाहें

क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यों नहीं जाती

वो एक ही चेहरा तो नही सारे जहाँ मैं

जो दूर है वो दिल से उतर के नहीं जाता

वो ख्वाब जो बरसों से ना चेहरा ना बदन है

वो ख़्वाब हवाओं मे  बिखर क्यों नहीं जाता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *