Use seher ae dil-Sad shayari

Use seher ae dil-Sad shayari

Use seher ae dil

Use seher ae dil se nikal ja chuka hai. Sabhi armano ko dafnaya ja chuka hai.

ye mumkin hau koi pahad se girkar uth jaye…uska kya jo najro se giraya ja chuka hai.

vo sochkar aaya mai ashq se pighal jaungi

koi jakar btaye use ki bhulaya ja chuka hai vo.

jidd meri hi thi rait ka ghar banne ki use napak lehero se mitaya ja chuka hai.

Use seher ae dil se nikal ja chuka hai. Sabhi armano ko dafnaya ja chuka hai.


उसे सेहर ए दिल से निकला जा चुका है। सभी अरमानों को दफनाया जा चुका है। 

ये मुमकिन है कोई पहाड़ों से गिर के उठ जाए …उसका क्या जो नजरो से गिराया जा चुका है ।

वो सोचकर  आया में अश्कों  से पिघल जाऊंगी ।

कोई जाकर बताई उसे भुलाया जा चुका है वो ।

जिद मेरी ही थी रेत का घर बनाने की,उसे नापाक लेहेरो से मिटाया जा चुका है।

उसे सेहर ए दिल से निकला जा चुका है। सभी अरमानों को दफनाया जा चुका है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *